Treds in hindi – व्यापार के लिए treds एक बहुत ही अच्छा प्लेटफार्म है। आज हम treds in hindi में जानते हैं कि treds क्या है और हमारे व्यापार में कैसे सहायता करता है। यह भी जानते हैं कि treds platform पर treds registration किस प्रकार की जाती है ?

treds in hindi

what is treds (treds क्या है )

यह एक प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफार्म है , जिसका उद्देश्य सूक्ष्म , लघु और मध्यम वर्ग के उद्योगों वित्तीय प्राप्ति में सहायता प्रदान करना है। 

यह भारतीय रिजर्व बैंक (RBI )द्वारा शुरू की गई पहल है।RXIL भारत का पहला ट्रेड प्लेटफार्म है जोकि जनवरी 2017 से कार्यरत है। treds को भारतीय स्टॉक एक्सचेंज, ICICI बैंक, भारतीय स्टेट बैंक, AXIS बैंक इत्यादि द्वारा promote भी किया जा रहा है।

सरकार ने सभी प्रकार की सार्वजनिक कंपनियों को treds पर register करने के लिए निर्देश दिए हैं।

treds full form and treds meaning (treds in hindi )

“TReDS” की full form है “Trade Receivables Discounting System” .

 Treds एक सरकार द्वारा बनाया गया ऐसा प्लेटफार्म है। जोकि MSMEs के लिए बनाया गया है, ताकि उन्हें समय अनुसार अपना पैसा मिल सके। इसमें सभी प्रकार के seller आते हैं।

इस platform पर तीन प्रकार के parties काम करती हैं – finance companies, seller और buyer

होता यह था कि buyer और seller के लेनदेन में seller को अपनी payment समय अनुसार नहीं मिलती थी जो कि उनके लिए बहुत बड़ी परेशानी की बात थी। 

पर अब किसी प्रकार की लेनदेन पर seller पहले factoring unit बनाता है और treds के platform पर चालान अपलोड करता है। यह डिजिटल रूप से invoice की जानकारी होती है।

buyer द्वारा लेन-देन को स्वीकार करने के बाद seller, treds platform पर finance companies के द्वारा दी गई हुई bits को चुनता है। seller को 48 घंटे के अंदर payment की प्राप्ति हो जाती है।

इसके अगले चरण में भुगतान की नियत तारीख को खरीदार द्वारा financer को payment कर दी जाती है। 

                                             (Source – Bank of india)

चलो अब हम जानते हैं कि treds platform पर treds registration किस प्रकार से की जाती है। पर उससे पहले हम MSME की बारे में कुछ जानते हैं क्योंकि treds मुख्य रूप से MSME पर आधारित है –

MSME

“MSME” की फुल फॉर्म “Micro, small & medium enterprises”.

सरल भाषा में समझते हैं तो MSME लघु , सूक्ष्म और मध्यम वर्ग के व्यापार की इकाइयां है ,जिन्हें की आकार के माध्यम से परिभाषित किया गया है। 

treds में registration से पहले MSME में registration कराना जरूरी होता है। इसलिए आप पहले अपने उद्योग को MSME में रजिस्ट्रेशन कराएं और उसके बाद treds platform पर करवाएं। 

trades platform (treds in hindi)

treds पर मुख्य रूप से तीन प्लेटफार्म हैं –

आज हम rxil.in और m1xchange के बारे में बात करेंगे और जानेंगे की किस प्रकार से treds registration की जाती है –

treds registration कैसे करें -

यह treds registration उन कंपनियों के लिए अनिवार्य है जिनका टर्नओवर 500 करोड से ऊपर है। तो जानते हैं कि rxil में किस प्रकार से treds registration किया जाता है –

rxil पहला treds platfom है जोकि जनवरी 2017 में कार्यरत हुआ था। 

process of RXIL treds registration

  • rxil.in की वेबसाइट खोलें
  • ऊपर की तरफ दाएं और आपको रजिस्टर का ऑप्शन मिल जाएगा
  • उस पर क्लिक करके बेसिक डिटेल भर दें , जैसे कि – नाम, GST नंबर , buyer name इत्यादि
  • आपकी user id बन जाएगी और उस आईडी से आप लोग इन कर ले
  • application में मांगी गई जानकारी को भरें और मांगे गए documents जैसे कि GST नंबर इत्यादि को भी अपलोड कर दें
  •  Master agreement को execute करें
  • अपलोड की गई सभी documents को self attested करके rxil को भेज दें
  • rxil के द्वारा verify होने के बाद आपकी एप्लीकेशन approv कर दी जाएगी
  • इसके बाद आपको कुछ फीस pay करनी होगी। 
  • fees payment के बाद treds platform उपयोग करने के लिए तैयार हो जाएगा।

process of m1xchange treds registration

  • m1xchange.com की वेबसाइट
  • सबसे ऊपर online registration का ऑप्शन होगा , उस पर क्लिक करें
  • अपना नाम और ईमेल आईडी भरें और fill application form पर क्लिक करें
  • अगला पेज खुलेगा, जिसमें मांगी गई सारी जानकारी भरें,जैसे कि- register as, company name, person name, contact number, entity type, company pan, CIN no.,name of business, MSME classification इत्यादि
  • submit पर क्लिक कर दें। आपको एक user id या code मिलेगा उससे को संभाल कर रख लें।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आ जाएं और log in to the xchange पर क्लिक करें 
  • वहां पर अपनी user id या code डालें और auto password  कर के आप ट्रेड प्लेटफॉर्म को उपयोग कर सकते हैं कर दो

benefits of treds registration

  • एक अच्छा प्लेटफार्म। 
  • buyer को अपनी payment समय अनुसार मिल जाती है।
  • व्यापार करना आसान हो गया है।
  • कम कागज कार्रवाई।
  • सरल वित्तीय सहायता। 
  • अलग-अलग वित्तीय कंपनियों के अलग अलग bit
  • कोर्ट केस की जरूरत नहीं पड़ती। 
  • सरल डेटाफ्लो। 

अंतिम वाक्य – आज हमने इस आर्टिकल में यह बताया कि treds  क्या है , treds registration किस प्रकार की जा सकती है और treds के क्या फायदे हैं ? 

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा और और निवेदन भी है कि आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर जरूर करें।

अगर आपका किसी प्रकार का प्रश्न या फिर कुछ चीजें समझ में ना आई हो तो कमेंट सेक्शन में कमेंट करके आप हमसे पूछ सकते हैं।

धन्यवाद। 


0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *